मुंह फट

‘रवि शुक्ला’

विदाई-अगुवाई

डीजीपी बदले पार्ट-1. छत्तीसगढ़ की पुलिसिंग कहते हैं कांटों भरा ताज है। वह इसलिए कि सारे फैसले हाउस के लिए जाएंगे, सिर्फ आपको साइन करना है। यानी हिसाब किताब हाउस से होगा और फाइल,कागज,पत्तर पीएचक्यू संभालेगा। चलो आईजी,एसपी तक तो समझ आता है की हाउस को डिसाइड करना चाहिए। लेकिन टीआई और उससे नीचे तबके के पुलिसकर्मियों की फाइल भी हाउस से चलेगी तो पीएचक्यू में बैठ डीजीपी क्या घास छीलेंगे।

प्रश्न यह भी है कि ऐसे में पुलिस वाले पीएचक्यू की सुनेंगे भी नहीं क्योंकि जब सारा कुछ हाउस को ही करना है तो सारी पुलिसिंग वहीं से होगी। कोई बात रहा था कि तंग आकर पंडित जी ने 6 माह पहले ही कह दिया था की पुलिसिंग कमजोर है तो मुझे हटा दीजिए। दो पॉर्ट में पिसने से तो अच्छा है की किनारे हो जाओ। छत्तीसगढ़ में पुलिसिंग बड़ी गजब की चीज है इसको पंडित जी से बेहतर कोई नहीं समझ सकता,पुलिस को हाउस ने ऐसी गाय बना दिया है कि जो चारा भी खाती है और दूध भी नहीं देती, ऐसे में पंडित जी कहां से दूध लाए,अब दूध भी गया और दुहनी भी गई।

पॉर्ट-2. छत्तीसगढ़ के डीजीपी दीपावली के तुरंत बाद बदले गए। लोग बेकार में कहते हैं कि हिसाब किताब में पंडित जी कमजोर थे। लेना एक न देना दो,कहने को तो ठीक है। लेकिन ऐसे में कोई डिपार्टमेंट चलता है क्या.

दीपावली में तो हिसाब किताब करना ही पड़ता है,चाहे अफसर हो या सेठ – मुनीम सब जानते हैं। दीपावली के समय हर कोई बोलता है लक्ष्मी जा,लक्ष्मी आ, समझना चाहिए यूपी चुनाव भी गले पड़ा है। पूरा छत्तीसगढ़ हाउस आजकल यूपी में डेरा डाले हुए हैं। कौन नहीं जानता कि चुनाव में माल की जरूरत पड़ती है। वैसे भी कांग्रेस के पास गिने-चुने स्टेट हैं। इसलिए कहते हैं हिसाब किताब में कमजोर पंडित जी निपट गए। वैसे पंडित जी के विदाई की गूंज राज्य से लेकर यूपी तक है विभाग में ये चर्चा आम और खास हो गई है कि इतना छीछालेदर कभी नही हुआ।

पॉर्ट-3. दुनिया में शेख सिर्फ अरब में नहीं होते पुलिस विभाग में भी एक शेख चिल्ली है। गजब इंसान हैं भई कुछ दिन पहले ही उन्होंने अपने मातहतो को बता दिया था कि छत्तीसगढ़ के पुलिस का मुखिया बदलने वाला है।

आदेश निकला तो छापामारी विभाग के चीफ आईपीएस अफसर ने ट्वीट किया आज ही मेरी ईद और आज ही मेरी दिवाली है। भले मुद्दा क्रिकेट से जुड़ा था। लेकिन एक तीर से दो निशाने वाले इस ट्वीट को विभाग के लोग पंडित जी की विदाई और नए साहब की अगुवाई से जोड़कर देख रहे हैं। सबसे बड़ी बात तो यह है कि हाउस का फैसला इस अफसर को लीक कैसे हो गया। फ्री में नसीहत है ज्यादा उत्साह में उछलना कूदना नहीं चाहिए तख्तो ताज तो बदलते रहते हैं।

बदलाव.

राज्य में ढाई साल बाद कहने को तो बदलना था मुखिया मगर कांग्रेस की सुस्त रफ्तार से यह मसला तो गया ठंडे बस्ते में लेकिन मुखिया निकल पड़े हैं सारे घर का बदल डालूंगा टाइप का.

बताते हैं जिले के कलेक्टर और एसएसपी भी बदलने वाले हैं। बदलाव की इस घड़ी में और क्या-क्या बदलेंगे यह तो वक्त ही बताएगा। फिलहाल तो नगर विधायक के पंगे के बाद कलेक्टर और डीआईजी प्रमोट होने के चलते पुलिस कप्तान के बदलने की चर्चा है।

हैप्पी दीपावली.

दीपावली में अपनी-अपनी ताकत और हैसियत के हिसाब से सौगातें बटती है। पुलिस भी इस रस्म को सालों से निभा रही है पर इस बार यहां नया ट्रेड जनरेट हुआ पटाखों की बंदरबांट की कमान इस बार एडिशनल एसपी ने खुद अपने हाथों में ले लिया था।

पहले यह काम थानेदार करते थे और अपने हिसाब से किसी को फुलझड़ी,चकरी, अनार वगैरह-वगैरह देते थे। इस बार शहर के सारे थानेदार कलप गए। क्योंकि एडिशनल एसपी ने पूरी रसद अपने पास बुला ली थी। कोई बता रहा था कि एएसपी अपनी दरियादिली दिखाने के चक्कर में थे। अब किसको बांटा किसको साटा यह तो भगवान ही जाने लेकिन इस बार थानेदारों को रसम अदा अदायगी के लिए अपनी जेब से माल लगाना पड़ा।

दीपावली मिलन.

बीते शनिवार की रात सम्पन्न हुए आईएएस एसोसिएशन की दीपावली मिलन में पहुँचे मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने अपने अलग अंदाज में ऐसा जलवा बिखेरा की आईएएस अफसरों के साथ ही साथ उनकी पत्नियो के चेहरे पर मुस्कान बिखर गई। मुख्यमंत्री ने आईएएस अफसरों की पत्नियों की तारीफ करते हुए कहा कि मेरे डांट फटकार का इनडायरेक्ट बर्डन आप लोगो पर ही पड़ता है। मैं अधिकारियों को किसी भी मुद्दे पर जब डांटता हु तो उसकी खीझ अधिकारी घर पहुँच कर आप लोगो पर ही उतारते होंगे। लिहाजा काम काज का इनडायरेक्ट बर्डन आप लोगो पर भी आ जाता है इसके कारण आप लोगो को भी धन्यवाद।

कैजुअल ड्रेस में पहुचे मुख्यमंत्री ने कहा कि गला खराब होने के कारण मुझसे आप लोग गाने की प्रस्तुति करने के लिये न कहें।

आईएएस अफसरों को भविष्य वक्ता बताते हुए राहुल गांधी व प्रियंका गांधी को इशारों ही इशारों में मुख्यमंत्री ने देश का भविष्य बताया। दरअसल स्वास्थय मिशन की संचालक प्रियंका शुक्ला व ओएसडी हेल्थ राहुल वेंकट कार्यक्रम का संचालन कर रहे थे,जिस पर मुख्यमंत्री ने चुटकी लेते हुए कहा कि आईएएस भविष्य जान लेते हैं इसलिए प्रियंका व राहुल को कार्यक्रम को लीड करने के लिये दिया गया है। और आगे इस कार्यक्रम के अलावा भी देश मे भी इनका ही लीड होगा।

मुख्यमंत्री के संक्षिप्त लेकिन दमदार व रोचक वक्तव्य को सुन कर आईएएस अफसरों के साथ ही उनकी पत्नियों ने भी जम कर ठहाके लगाते हुए तालिया बजायी।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *