लाइव- आखिर कैसे हुई समीर और उसके दोस्तों की सड़क दुर्घटना में मौत,दिल दहलाने वाला वीडियो आया सामने,कौन-कौन पहुचा मौके पर, इधर युवती के पिता का दावा मेरी बेटी भी थी गाड़ी में, सस्पेंस बरकरार.

बिलासपुर. बीती रात रतनपुर थाना क्षेत्र के ग्राम पोड़ी-खैरा के समीप एक दर्दनाक सड़क हादसे में शहर के युवा पत्रकार और उसके दो साथियों की बेहद ही दुःखद मौत हो गई। पत्रकार अपने दोस्त और युवती को लेकर परिचित के फार्म हाउस जा रहा था। इसी बीच उसकी कार अनियंत्रित हो गई और पेड़ से जा टकराई टक्कर इतनी जोरदार थी कि पेड़ की जद में आते ही जोरदार विस्फोट हुआ और गाड़ी में आग लग गई। देखते ही देखते आग और भड़क गई और तीनों की गाड़ी की भीतर ही रह गए। इधर पुलिस को सिर्फ तीनो के कंकाल मिला है वही एक अन्य युवती की गाड़ी में मौजूदगी को लेकर सस्पेंस बरकरार है।

रतनपुर पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार बीते शनिवार की करीब 1 से 1:30 के बीच एक वैन्यू कार अनियंत्रित होकर ग्राम पोड़ी व खैरा के मध्य पेड़ से टकराने से कार में भीषण आग लग गई थी। घटना की सूचना देर रात डायल 112 में राहगीरों ने दी,थाना प्रभारी प्रसाद सिन्हा ने बताया रात में ही कार के भीतर दो युवक और एक युवती को जलता देखे जाने की जानकारी आसपास के लोगो से मिली है वही घटना के कुछ देर बाद किसी ने जलती कार का वीडियो भी बना के सोशल मीडिया पर अपलोड किया है। घटना की जानकारी लगने के बाद रतनपुर पुलिस टीम व एफएसएल और तहसीलदार की मौजूदगी में घटनास्थल का निरीक्षण किया गया है।

ऐसे हुई पहचान.

पुलिस की माने तो.

1.वैन्यू कार नम्बर सीजी10 bd 7861 शहनवाज खान उर्फ समीर पिता ईशरार खान मूल निवासी राजनगर हालमुकाम रिंग रोड 2 पल्लव भवन के सामने ड्राइव कर रहा था। घटना की सूचना पाकर शहनवाज खान के मित्रों और परिजनों द्वारा ड्राइविंग सीट में मिले कंकाल उसकी चेन,अंगूठी, कड़ा से कंकाल की पहचान शहनवाज खान के रूप में की है।

2. ड्राइविंग सीट के बगल में मिले कंकाल में एक चेन मिली है। जिसकी शिनाख्त याशिका मनहर पिता भवानी राम उम्र 22 वर्ष निवासी बालको नगर भद्रा पारा जिला कोरबा के रूप में उसके पिता के द्वारा की गई है।

3. ड्राइविंग सीट के पीछे मिले कंकाल में एक कड़ा,चेन घड़ी मिली है जिसकी शिनाख्त अभिषेक कुर्रे पिता स्वर्गीय सत्यप्रकाश कुर्रे उम्र 25 निवासी वसुंधरा नगर थाना सिविल लाइन जिला बिलासपुर के रूप में उसके जीजा नीलेश कुमार के द्वारा की गई है।

एक अन्य युवती को लेकर सस्पेंस बरकरार.

घटना की खबर आग की तरह रतनपुर के साथ बिलासपुर में फैल गई पूरी तरह जल चुकी गाड़ी को देखने के बाद पहले तो किसी को कुछ समझ ही नहीं आ रहा था। जैसे तैसे गाड़ी का नंबर देखा गया। जिसके बाद उक्त वैन्यू गाड़ी शहर के युवा पत्रकार शाहनवाज खान उर्फ समीर के नाम पर रजिस्टर्ड निकली। इधर पुलिस ने पत्रकार समीर की गाड़ी होने की तस्दीक करने के बाद एक-एक कर जानकारी इकट्ठा करना शुरू कर दिया था।। तब तक मृतक पत्रकार के परिजन और भारी संख्या में दोस्तों की टोली घटनास्थल पर पहुंच चुकी थी। मौके पर होने के बाद भी किसी को कुछ समझ नहीं आ रहा था। हालांकि कुछ प्रत्यक्षदर्शियों ने और पास ही एक ढाबा संचालक ने जो कुछ बताया उससे ही सारी घटना की जानकारी की तसल्ली करना पड़ा। अभी तक जो जानकारी सामने आई है उसके मुताबिक पत्रकार समीर खान अपने साथी अभिषेक कुर्रे और युवती को लेकर एक परिचित के फार्म हाउस जा रहा था। पुलिस के हिसाब से गाड़ी में तीन ही लोग थे लेकिन एक अन्य चौथी लड़की जिसका नाम भिलाई निवासी विक्टोरिया बताया जा रहा है उसे लेकर सस्पेंस बरकरार है घटना के बाद विक्टोरिया का मोबाइल ऑफ आ रहा है और गाड़ी में जले हालत में चाबी एक चाबी मिली है जो विक्टोरिया के रूम की बताई जा रही है रतनपुर थाने में उसके परिजन भी देर शाम पहुंच गए थे।

मौके पर कहा जा रहा था कि इस भीषण आगजनी में विक्टोरिया और किसी एक साथी की बॉडी मैच हो गई है जिसके चलते विक्टोरिया की मौजूदगी समझ से परे वहीं पुलिस को भी गाड़ी में खाक हो चुकी हड्डियों और कुछ जल चुके सामानों के अलावा और कुछ नहीं मिला है जानकारों की माने तो डीएनए टेस्ट के बाद ही कार में विक्टोरिया के मौजूदगी क्लियर हो पाएगी, फिलहाल पुलिस और विक्टोरिया के परिजन उसकी तलाश में जुटे हुए हैं। इधर घटना के बाद तरह-तरह के उठ रहे सवालों के बीच एक युवती की फोटो सोशल मीडिया पर सामने आई है। जिसे विक्टोरिया की होना बताया जा रहा है लेकिन स्पष्ट कुछ भी नहीं है। रतनपुर पुलिस ने मर्ग कायम कर तीनो शवों का पंचनामा कार्रवाई के बाद पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है।

दिल दहला देने वाला वीडियो.

घटना का एक वीडियो सोशल मीडिया पर तैर रहा है। जिसमें भीषण आग के बीच कार की ड्राइविंग सीट पर हड्डियों का ढांचा आग से घिरा जदोजहद करते हुए दिखाई दे रहा है। जो बारीकी से देखने पर बड़ा ही दिल दहलाने वाला वीडियो है।

नहीं रहा हंसमुख मिलनसार समीर.

पत्रकारिता के पेशे से जुड़े समीर खान को लोग उसके रियल नेम शाहनवाज खान के नाम से कम ही जानते थे। हर तरफ समीर के नाम की चर्चा थी जहां भी जाओ लोग उसे समीर कहकर ही पुकारते थे। पत्रकारिता के साथ रामा मैग्नेटो मॉल के सामने अन्ना दोसा सेंटर में समीर की बैठती हुआ करती थी। जिसे भी उससे मिलना हो बस अन्ना दोसा ही उसका अड्डा था। समीर काफी हंसमुख और मिलनसार पत्रकार था कभी भी किसी को कोई भी काम के लिए मना (नहीं ) ना बोल पाना उसकी फितरत में था। पत्रकारिता के क्षेत्र में होने के नाते उसकी जिला व पुलिस प्रशासन के बीच भी समीर की अच्छी पैठ हो गई थी। वही समाज के हर वर्ग में समीर काफी पसंद किया जाता था। एक विशेष वर्ग से होने के बावजूद समीर मंदिर व अन्य पवित्र स्थलों में माथा टेकने से नही चूकता था। जिसने भी उसके मौत की खबर सुनी सहम सा गया याद कर खूब रोया, घटना की खबर लगते ही उसके दोस्त,पत्रकार, अफसर,नेता और व्यापारी घटनास्थल पर जुटने लगे थे। जिसने भी उसके मौत की खबर सुनी बस सहम सा गया समीर को ‘OMG NEWS NETWORK’ का आखरी सलाम.

विक्टोरिया के पिता का दावा.

विक्टोरिया को लेकर सस्पेंस के बीच उसके पिता एनटीपीसी कोरबा में कार्यरत सी एल आदित्य ने बताया कि लड़की विक्टोरिया आदित्य बिलासपुर के गया विहार कॉलोनी में निवास करती थी। लड़की के पिता का दावा है कि उनकी लड़की भी उस वक्त इसी कार में मौजूद थी। जब कार पेड़ से टकराई और उसमें आग लग गई।

लड़की के पिता का कहना है कि कार में हाथ और सिर की जो हड्डियां मिली है उनसे भी उन्हें यह पुष्टि हो रही है कि उनकी बेटी विक्टोरिया आदित्य भी इस दुर्घटना की शिकार हो गई है। कार के भीतर एक चाबी भी मिली है जो विक्टोरिया आदित्य के गया विहार स्थित मकान के ताले की चाबी होने का दावा पिता द्वारा किया जा रहा है। फिलहाल उसके पिता और परिजन रतनपुर पुलिस के संपर्क में है।

हाल ही में हुई थी अभिषेक की सगाई.

वैसे तो घटना की वजह को लेकर लोग तरह-तरह की बातें कर रहे हैं इधर एक और बात सामने निकल कर आ रही है कि अभिषेक कुर्रे जल्द दांपत्य जीवन में बांधने वाला था हाल ही में उसकी सगाई जैसी एक रस्म अदायगी भी हुई थी। लेकिन ऊपर वाले को कुछ और ही मंजूर था।

चारो तरफ बिखरा गाड़ी के पॉट्स.

यह घटना की भयानक थी कि समीर,अभिषेक और युवती गाड़ी के भीतर ही फसे रहे वही घटनास्थल के पास खेतों में दूर दूर तक गाड़ी के पार्ट्स बिखरे हुए थे। एक मोबाइल कवर भी मिला,आगजनी मे गाड़ी कलर तक गल के कई जगह इकट्ठा हो गया था। गाड़ी भी टोटल लॉस हो गई वही समीर के मित्रों को उसकी गाड़ी घटनास्थल से हटाकर थाने तक लाने में काफी जद्दोजहद करना पड़ा। पहले तो गाड़ी लोड नहीं हो रही थी फिर कई घंटों बाद क्रेन बुलाकर गाड़ी को उठाकर लोड किया गया और रतनपुर पुलिस के सुपुर्द किया गया है।

कल होगा अंतिम संस्कार.

समीर के मित्रों से मिली जानकारी के अनुसार सोमवार को पोस्टमार्टम की औपचारिकता पूरी होने के बाद उसका अंतिम संस्कार गृह ग्राम राजनगर में किया जाएगा तो वही समीर और अभिषेक की आकस्मिक मौत से अत्यंत दुखी उसके इष्ट मित्रों ने सोमवार की सुबह 10 बजे अन्ना दोसा में श्रद्धांजलि सभा रखी है।

सभी मृतकों को ‘OMG NEWS NETWORK’ की ओर से विनम्र श्रद्धांजलि.

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *