OMG पड़ताल- जेल में महामारी: कैदियों की तो छोड़िए, सिपाहियों की भी परवाह नहीं प्रशासन को..

बिलासपुर. बिलासपुर. सेंट्रल जेल में कोरोना के महामारी की सुरंग बढ़ती ही जा रही है। कैदियों के टेस्ट की बात तो दूर जेल प्रशासन अपने ही स्टाफ के टेस्ट को लेकर गंभीर नही है। आलम यह है कि जेल अधीक्षक अपने ही स्टाफ को कर्तव्य से अनुपस्थिति बता नोटिस थमा रहे है तो वही जेलर ने हेल्थ डिपार्टमेंट को किसी भी जेल के स्टाफ का चेकअप करने से मना कर रखा है।

सेंट्रल जेल में कोरोना का कहर लगातार बढ़ रहा है। 9 जेल कर्मियों के पॉजिटिव आने के बाद शनिवार को 5 और रविवार को 1 जेल कर्मी की पत्नी भी कोरोना की जद में आ गई हैं। जिसके बाद जेल की चार दिवारियो के बीच स्थिति भयावह हो गई है। वही एक तरफ कैदियों में कोरोना को लेकर हाहाकार मचा हुआ है तो वही जेल प्रशासन पर कोरोना के टेस्ट को लेकर गंभीर नही होने का आरोप लग रहा है। ‘OMG NEWS NETWORK’ को पड़ताल में पता चला है कि कुछ जेल कर्मी खुद से कोरेन्टाइन होकर अपना टेस्ट करवा रहे लेकिन उन्हें जेल अधीक्षक द्वारा नियमों का हवाला देकर नोटिस थमाया जा रहा है।

सेंट्रल जेल के दस प्रहरियों को कोरोना पॉजिटिव पाए जाने की खबर से हजारों कैदियों की जान खतरे में आ गई है। इसको लेकर स्वास्थ्य एवं जिला प्रशासन में जमकर हड़कंप मचा है। कोरोनावायरस हत्या के एक सजायाफ्ता कैदी के जरिए जेल में घुसा है। करीब 1000 कैदियों में सर्दी खांसी बुखार के लक्षण की खबर भी छनकर आने लगी है। न्यायधानी की सेंट्रल जेल में प्रशासन के लिए महामारी का नया सिरदर्द बनते जा रहा है। इसकी बड़ी वजह जेल प्रशासन के शुरुआती लापरवाही को माना जा रहा है। जेल प्रशासन ने शुरू में जेल के कैदियों की सर्दी खांसी की शिकायतों को नजरअंदाज कर दिया और अब यही बीमारी, कोरोनावायरस के रूप में राक्षस बन कर सामने आ रही है। सेंट्रल जेल में मंगलवार की सुबह से अफरा-तफरी मची हुई है। जेल प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग यहां महामारी से निजात के लिए हाथ-पांव मार रहा है। हत्या के आरोप में सजा काट रहे रायगढ़ के एक कैदी की रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद जेल के बीस प्रहरियों का टेस्ट करवाया गया। तमाम टेस्ट होने के बाद अंतिम चरण के एंटीजन टेस्ट में 9 जेल के प्रहरी की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। इसके बाद से जेल प्रशासन सकते में है। इधर अलग-अलग सेल में बंद 1000 से अधिक कैदी में सर्दी बुखार और खांसी के सिम्टम्स बताए जा रहे हैं। जेल में महिला और पुरुष मिलाकर 15 सौ कैदियों को रखने की क्षमता है, मगर यहां लगभग दुगनी यानी 2800 कैदियों को ठूंस कर रखा गया है। इनकी देखरेख के लिए 150 जेल के कर्मचारी अधिकारी भी तैनात हैं। इन सभी पर संक्रमण का खतरा मंडरा रहा है। जेल में कोरोनावायरस फैलने के बाद स्वास्थ्य विभाग और जेल प्रशासन ने चुप्पी साध ली है।

इधर जिले के सीएमएचओ प्रमोद महाजन ने ओएमजी न्यूज़ नेटवर्क को बताया कि फिलहाल जेल के कर्मचारियों की जांच की जा रही है। जेल के 9 कर्मचारियों के संक्रमित होने और कैदियों को लक्षण के सवाल को उन्होंने शाम तक रिपोर्ट आने की बात कही थी। सूत्रों के अनुसार मंगलवार से जेल परिसर को कंटेनमेंट जोन घोषित करने पर विचार किया जा रहा है। जो अब तक नही किया गया है।

जेल के भीतर कोरोनावायरस को लेकर रहस्य बना हुआ है, और हर गतिविधियों पर डीजी जेल संजय पिल्ले नजर बनाए हुए हैं। उन्होंने जेल में महामारी को लेकर की गई लापरवाही के बाद स्थानीय जेल प्रशासन को जिम्मेदार बता फोन पर खरी खोटी सुनाई है।

फार्मेसिस्ट सहित 5 और 1 महिला आई पॉजिटिव..

मिली जानकारी के अनुसार शनिवार को जेल हॉस्पिटल के फार्मेसिस्ट और 4 स्टाफ समेत 1 ड्राइवर की रिपोर्ट भी कोरोना पॉजिटिव आ गई है। वही रविवार को जेल अधीक्षक का चालक भी कोरोना पॉजिटिव आया है एक जेल प्रहरी की पत्नी भी कोरोना की जद में आ गई है जिन्हें कोविड 19 अस्पताल रवाना कर दिया गया है। वही अन्य जेल प्रहरी कोरोना संक्रमण के डर से जेल परिसर स्थित अपने घर- परिवार वालों से दूरी बनाए हुए अलग से कोरेन्टाइन होकर अपना खुद से टेस्ट करवा रहे हैं। इस बात को लेकर जेल अधीक्षक एस के मिश्रा ने नाराजगी व्यक्त कर करीब एक दर्जन से अधिक जेल प्रहरियों को कर्तव्य से अनुपस्थित बता कर नोटिस थमा दिया गया है जिसे लेकर जेल प्रहरियों में अंदर ही अंदर आक्रोश पनप रहा है। बताया जा रहा है कि जेल प्रहरियों का कहना है कि उन्हें जेल अधीक्षक द्वारा नोटिस का डर दिखा के जबरिया ड्यूटी पर बुलाया जा रहा है जबकि सभी को कोरोना के संक्रमण होने की चिंता सता रही हैं।

जेलर पर भी आरोप..

सूत्र बताते हैं कि सेंट्रल जेल के जेलर आर आर राय ने हेल्थ डिपार्टमेंट को किसी भी जेल कर्मी का कोरोना टेस्ट करने से मना किया है। जेलर पर आरोप लग रहे हैं कि उनकी इस नाफरमानी के कारण जेल को कोरोना अपनी कैद में ले रहा है वही कैदियों की इस बाबत कोई सुनवाई नहीं हो रही हैं।

जेल डीजी से नही हुआ संपर्क..

सेंट्रल जेल में कोरोना से मचे हाहाकार को लेकर जेल डीजी संजय पिल्ले से उनके पर्सनल मोबाइल नंबर पर ‘OMG NEWS NETWORK’ ने कई बार संपर्क करने का प्रयास किया मगर डीजी का फोन कनेक्ट नही हुआ।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *